भारतीय शास्त्रीय संगीत में वर्ण का महत्व | Definition of Varna

Spread the love

वर्ण की परिभाषा :-

गानक्रियोच्यते वर्ण: स चतुर्धा निरुपित: ।

स्थाय्यारोहाबरोही च सचारीत्यथ लक्षणं ।।
– अभिनव रागमंजरी

अर्थात् :- गाने की जो क्रिया है, उसे “वर्ण” कहते है। वर्ण चार प्रकार के होते है जिन्हें क्रमश:
१. स्थायी २. आरोही 3. अवरोही ४. संचारी वर्ण कहते है।

१. स्थायी वर्ण :- एक ही स्वर बार- बार ठहर-ठहरकर बोलने या गाने की क्रिया को स्थायी वर्ण कहते है; जैसे : – सा सा सा सा , रे रे रे रे अथवा ग ग ग ग । स्थायी का अर्थ है – “ठहरा हुआ”।

२. आरोही वर्ण :- नीचे स्वर से ऊँचे स्वर तक चढ़ने या गाने की क्रिया को आरोही वर्ण कहते है ; जैसे:- षडज से आगे स्वर बोलने है तो “सा रे ग म प ध नि ” यह आरोही वर्ण हुआ।

३. अवरोही वर्ण :- ऊँचे स्वर से नीचे स्वरों पर आने या गाने की क्रिया को अवरोही वर्ण कहते है ; जैसे :- षडज स्वर से नीचे के स्वर बोलने है, तो “सा नि ध प म ग रे सा ” यह अवरोही वर्ण हुआ।

४. संचारी वर्ण :- स्थायी, आरोही और अवरोही – इन तीनो वर्णों के संयोग (मिलावट) से जब स्वरों की उलट- पलट की जाती है, अर्थात् जब तीनो वर्ण मिलकर अपना रूप दिखाते है, तब इस क्रिया को संचारी वर्ण कहते है।

निष्कर्ष :- गाते – बजाते समय उपर्युक्त चारो वर्ण काम में लाये जाते है। किसी भी गायन में उपर्युक्त चारो वर्ण अवश्य ही मिलंगे , क्योंकि इनके बिना गान-क्रिया चल नहीं सकती।

These are demo notes for respective song. You can try it on your instrument. If it works for you and you are comfortable to play along with our notes, you can simply get full notes by paying us. Just click the Buy Now button below and see our packages.

Titiksha

Titiksha Telang is an Indian Musician & Singer. She is MA in Indian Classical Music & Owner of Sargam Book Website.

WhatsApp WhatsApp us
Sargam Book